साइंस कहती है कि पीठ पर कोड़े मारने से नशे की लत से छुटकारा पाया जा सकता है,क़ुरआन में यह बात 1400 साल पहले ही…

आज के दौर में शराब, जुआ जैसी बुरी तरह की लत आम हो रही है। हनल ही में विशेषज्ञ और कई डॉक्टर्स ने इसका सीधा सा इलाज भी खोज लिया है।लेकिन आपको यह बात जानकर बहुत ही ज्यादा हैरानी होगी कि इस बात को मुस्लिम समुदाय की धार्मिक किताब कुरान पाक में 1400 साल पहले ही बताया गया था।

बता दे कि पीठ पर कोड़े मारने की थेरेपी पर इंगेलेंड की डेली मेल एक सिटेल से रिपोट भी पेश की गई है।

विशेषग्यों का कहना है कि ड्रग्स के आदि मरीज और मानसिक मरीजों को पीठ और कोड़े मारने से बहुत ही जल्द इस लत से छुटकारा मिल जाता है।रूसी विशस्ग्यो का कहना है कि कई असफल तरीको के प्रयास के बाद कोड़े मारने के यरीक़े सेसफ़लता प्राप्त हुई है।

डॉक्टर Germen Pilipenko का कहना है कि मेंके इस इलाज से करीब 1000 लोगो का सही से तर्जुमा देखा है। यहां तक कि दूर दराज के लोग भी मेरे पास इस इल्ज के लिए आते है।

कुरान शरीफ में शराब पीने की सजा के रूप में कोडो की संख्या तय है।इस्लाम धर्म मे इसे जुर्म की सजा ही करार दिया गया है। लेकिन साइंस ने इस बात को साबित कर दिया है कि सिर्फ सजा ही नही इल्ज भी है। रूस के दरवाजों में एक बार कोड मारने की फीस 60 डॉलर है।

Leave a Comment