मोअज़म खान को सलाम:वह पाकिस्तानी जिसने बचाई यूक्रेन में फंसे भारत के 2500 छात्रों की जिंदगी,मिल रही…

रूसी हमले के बाद हजारों भरतीय छात्र यूक्रेन में फंसे गए थे। इनकी निकासी भारत के लिए एक बड़ी चुनोती है। मुसीबत के अंधेरे में कुछ अच्छे लोग रौशनी की किरण बनकर भी आते है।एसओएस इंडिया के संस्थाओक नितेश कुमार यूक्रेन के युद्धग्रस्त इलाके में फंसे भारतीय छात्रों को पश्चिमी बॉर्डर तक पहुँचया रहे है। इसमें उनकी मदद एक पाकिस्तानी शख्स कर रहा है।

रेडिफ डॉट कॉम के मुताबिल बता दे किजब नितेश ने भारतीयों छात्रों को बाहर निकलने की सोची तो उन्हें इसके बारे में कुछ भी मालूम नही था।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक निटेसग ने बताया है कि मोआजम्म हमारी टीम के लिए किसी भी वरदाब की तरह है। वह बहुत मददगार थे। मोअमजम्म ने 2500 छात्रों के लिए सुरक्षित रास्त3 का इंतजाम भी किया।

मोअज्जम ने रेडिफ को बतौया है कि जब मैंने भारतीय छात्रों के पहले बैच को बचाया तो मुझे नही पता था कि संकट इतना बड़ा है। मैंने पाया है कि मेरा नम्बर के भारतीय व्हाट्सएप ग्रुप पर वायरल हो रहा है। इसके बाद मुझे आशी रात को रेस्क्यू ऑपरेशन के लिएफोन आने लगे। उन्होंने कहा अभी तक मैं 2500 भारतीय छात्रों को बचा चुका हूं।

उन्होंने कहा कि मैं उदू बोलता हूं और भारतिय लोग भी हिंदी बोलते है इसलिए मुझे ज्यादा मुश्किल भी नही है। आगे कहा कि सबसे अच्छी बात है दुआए जो मुझे आज भी कई छात्र दे रहे है।

Leave a Comment