ये 8 फल खा लिए तो नहीं पड़ेगे कभी बीमार, दिल को सेहतमंद बनाने का ये तरीका भी जानिए

किसी भी चीज को खाने के लिए हम सबसे पहले इसके असरात और विटामिन्स के बारे में जानना होता है। कोई भी फल ,मेवे और प्रोटीन कि चीजे खाने के लिए सबसे पहले हम उनके बारे में जानते है। एसा कहा जाता है कि किसी भी चीज कि अति अच्छी नहीं होती। लेकिन आपके फैमिली डाक्टर इस बात से बहुत ज्यादा सहमत है।कंजेस्टिव हार्ट फेलियर वाले 10 में से 4 लोगो को हिप्रकेलेमिया नाम कि समय का सामना करना पड़ता है।

आइए जानते है हिप्रकेलेमिय किस बीमारी और बला का नाम है? दरअसल हाईप्र का मतलब होता है ज्यादा और केलेमिया काइस्तेमाल पोटेशियम मै किया जाता है।जिसका प्रतीक चिन्ह K है। इसलिए इसका पूरा मतलब हुआ ज्यादा पोटैशियम। पोटैशियम के ज्यादा मात्रा ज्यादा अच्छी नहीं होती है। पोटैशियम उन केमिकल में से एक है। जिनकी वजह से आपका दिल काम करता है।

आपके शरीर में पानी के संतुलन को बनाएरखने के लिए ये बहुत जरूरी है लेकिन पोटैशियम कि मात्रा आपके शरीर के काम करने कि गति पर असर डाल सकती है। इसके साथ ही किडनी और मासपेशियों को भी प्रभावित कर सकती है।जिससे आप कमजोर महसूस कर सकते हो। 1.इस तरह के गम्भीर हालत के पीछे क्या वजह होती है? दिल और किडनी के बीच एक डायनेमिक जुड़ाव होता है।दिल और किडनी मूल रूप से काफी हदतक। एक दूसरे का विरोध करते है।

पेशाब के जरिए पानी और सॉल्ट को शरीर के बाहर निकलकर किडनी इनकी मात्रा को कम या ज्यादाकरके शरीर में इलेक्ट्रोलाइट का संतुलन बनाए रखता है। खून में मौजूद पानी कि मात्र से दिल पर असर पड़ता है। जिसे बाहर पंप करने कि जरुरत होती है। तरल ज्यादा होने पर उसे जितना ज्यादा पंप करनापड़ता है।दिल पर दबाव उतना ज्यादा बड जाता है।

दिल कि ऐसी समस्या को कंट्रोल करने के लिए डॉक्टर वाटर पिल्स लेने कि सलाह देते है। इन पिल्स कि मदद से पानी कि मात्रा बड जाती है। खून मे पोटैशियम बड जाता है। पोटैशियम के तेजी से बढ़ने से दिल पर असर पड़ता है। जिससे दिल सही ढंग से नहीं धड़कता है। इससे पैरालिसिस होने का खतरा होता है। इससे चक्कर आते है और मासपेशियों में थकान महसूस होती है।

हम आपको उन फलो के बारे में बताना चाहते है । जिन्हे आपको अपनी डाइट में शमिल करना है। 1. तरबूज : एक कप तरबूज से आपके शाम का स्नेक्स बहुत शानदार बन सकताहै। 2. अनानास : यह बहुत ही मजेदार खट्टे, मीठे वाला फल है। जिसे आप या तो फल कि तरह खा सकते है या फिर जूस की तरह पीसकते है। 3. पीच : टोस्ट किए हुए ब्रेड के साथ इस मीठे, जूसी फल को खाने का अपना ही एक मज़ा है। इन फलों को खाने से कई तरह कि बिमरिया हल हो

जाती है। 4. नाशपाती : एक छोटे से नशपती में इतने न्यूट्रिएंट्स होते है जो आपके दिल और किडनीदोनों को सेहतमंद बनाए रख सकते है। 5. सेब : कहा जाता है कि डॉक्टर को दूर रखने के लिए एक सेब काफी होता है। अगर आपको सेब का जूस पसंद है तो आप इसे किसी और जूस कि जगह पर पी भी सकते है।

Leave a Comment